धारा 30 भ्रष्टाचार अधि. | Section 30 Prevention of corruption act Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “निरसन और व्यावृत्ति | भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 30 क्या है | Section 30 Prevention of corruption act in hindi | Section 30 of Prevention of corruption act | धारा 30 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम | Repeal and savingके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 30 |  Section 30 of Prevention of corruption act

[ Prevention of corruption act Sec. 30 in Hindi ] –

निरसन और व्यावृत्ति—

(1) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1947 (1947 का 2) और दंड विधि संशोधन अधिनियम, 1952 (1952 का 46) निरसित किए जाते हैं।

(2) ऐसे निरसन के होते हुए भी, किंतु साधारण खंड अधिनियम, 1897 (1897 का 10) की धारा 6 के लागू होने पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना इस प्रकार निरसित अधिनियमों के अधीन या उनके अनुसरण में की गई या किए जाने के लिए तात्पर्यित कोई बात या कोई कार्रवाई जहाँ तक कि वह इस अधिनियम के उपबंधों से असंगत नहीं है, इस अधिनियम के तत्स्थानी उपबंधों के अधीन या उनके अनुसरण में की गई बात या कार्रवाई समझी जाएगी।

धारा 30 Prevention of corruption act

[ Prevention of corruption act Sec. 30 in English ] –

Repeal and saving”–

(1) The Prevention of Corruption Act, 1947 (2 of 1947) and the Criminal Law Amendment Act, 1952 (46 of 1952) are hereby repealed. 

(2) Notwithstanding such repeal, but without prejudice to the application of section 6 of the General Clauses Act, 1897 (10 of 1897), anything done or any action taken or purported to have been done or taken under or in pursuance of the Acts so repealed shall, in so far as it is not inconsistent with the provisions of this Act, be deemed to have been done or taken under or in pursuance of the corresponding provision of this Act. 

धारा 30 Prevention of corruption act

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम  

Pdf download in hindi

Prevention of corruption act

Pdf download in English 

Pocso Act sections listDomestic violence act sections list
Updated: May 17, 2020 — 7:39 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.