धारा 225 संविदा अधिनियम | Section 225 Indian Contract act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “मालिक की उपेक्षा से कारित क्षति के लिए अभिकर्ता को प्रतिकर | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 225 क्या है | Section 225 Indian Contract act in Hindi | Section 225 of Indian Contract act | धारा 225 भारतीय संविदा अधिनियम | Compensation to agent for injury caused by principal’s neglectaके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 225 |  Section 225 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 225 in Hindi ] –

मालिक की उपेक्षा से कारित क्षति के लिए अभिकर्ता को प्रतिकर-

 मालिक की उपेक्षा से या कौशल के अभाव से उसके अभिकर्ता को कारित क्षति के लिए मालिक अभिकर्ता को प्रतिकर देगा।

दृष्टांत

क एक गृह बनाने के लिए ख को राज के तौर पर नियोजित करता है और पाड़ स्वयं ही लगाता है। पाड़ कौशलहीनता से लगाई गई है और परिणामतः ख उपह्त होता है । ख को क प्रतिकर देगा।

धारा 225 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 225 in English ] –

“Compensation to agent for injury caused by principal’s neglecta”–

The principal must make compensation to his agent in respect of injury2 caused to such agent by the principal‟s neglect or want of skill.

Illustration

A employs B as a bricklayer in building a house, and puts up the scaffolding himself. The scaffolding is unskilfully put up, and B is in consequence hurt. A must make compensation to B.

 

धारा 225 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation actSection 1 of limitation act
Updated: May 12, 2020 — 11:11 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.