Home LAW धारा 212 CrPC | Section 212 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 212 CrPC | Section 212 CrPC in Hindi | CrPC Section 212

1571
0
section 212 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “समय, स्थान और व्यक्ति के बारे में विशिष्टियां | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 212 क्या है | section 212 CrPC in Hindi | Section 212 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 212 | Particulars as to time, place and personके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 212 |  Section 212 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 212 in Hindi ] –

समय, स्थान और व्यक्ति के बारे में विशिष्टियां-

(1) अभिकथित अपराध के समय और स्थान के बारे में और जिस व्यक्ति के (यदि कोई हो) विरुद्ध अथवा जिस वस्तु के (यदि कोई हो) विषय में वह अपराध किया गया उस व्यक्ति या वस्तु के बारे में ऐसी विशिष्टियां, जैसी अभियुक्त को उस बात की, जिसका उस पर आरोप है, सूचना देने के लिए उचित रूप से पर्याप्त हैं आरोप में अंतर्विष्ट होंगी।

(2) जब अभियुक्त पर आपराधिक न्यासभंग या बेईमानी से धन या अन्य जंगम संपत्ति के दुर्विनियोग का आरोप है तब इतना ही पर्याप्त होगा कि विशिष्ट मदों का जिनके विषय में अपराध किया जाना अभिकथित है, या अपराध करने की ठीक-ठीक तारीखों का विनिर्देश किए बिना, यथास्थिति, उस सकल राशि का विनिर्देश या उस जंगम संपत्ति का वर्णन कर दिया जाता है जिसके विषय में अपराध किया जाना अभिकथित है, और उन तारीखों का, जिनके बीच में अपराध का किया जाना अभिकथित है, विनिर्देश कर दिया जाता है और ऐसे विरचित आरोप धारा 219 के अर्थ में एक ही अपराध का आरोप समझा जाएगा:

परंतु ऐसी तारीखों में से पहली और अंतिम के बीच का समय एक वर्ष से अधिक का न होगा।

धारा 212 CrPC

[ CrPC Sec. 212 in English ] –

“ Particulars as to time, place and person ”–

  1. The charge shall contain such particulars as to the time and place of the alleged offence, and the person (if any) against whom, or the thing (if any) in respect of which, it was committed, as are reasonably sufficient to give the accused notice of the matter with which he is charged.
  2. When the accused is charged with criminal breach of trust or dishonest misappropriation of money or other moveable property, it shall be sufficient to specify the gross sum or, as the case may be, described the movable property in respect of which the offence is alleged to have been committed, and the dates between which the offence is alleged to have been committed, without specifying particular items or exact dates, and the charge so framed shall be deemed to be a charge of one offence within the meaning of section 219;
    Provided that the time included between the first and last of such dates shall not exceed one year.

धारा 212 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here