धारा 211 संविदा अधिनियम | Section 211 Indian Contract act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “मालिक के कारबार के संचालन में अभिकर्ता का कर्तव्य | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 211 क्या है | Section 211 Indian Contract act in Hindi | Section 211 of Indian Contract act | धारा 211 भारतीय संविदा अधिनियम | Agent’s duty in conducting principal’s businessके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 211 |  Section 211 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 211 in Hindi ] –

मालिक के कारबार के संचालन में अभिकर्ता का कर्तव्य-

अभिकर्ता अपने मालिक के कारबार का संचालन मालिक द्वारा दिए गए निदेशों के अनुसार, या ऐसे निदेशों के अभाव में, उस रूढ़ि के अनुसार, करने के लिए आबद्ध है जो उस स्थान पर, जहां अभिकर्ता ऐसे कारबार का संचालन करता है, उसी किस्म का कारबार करने में प्रचलित हो। जबकि अभिकर्ता अन्यथा कार्य करे तब यदि कोई हानि हो तो उसे उसके लिए अपने मालिक की प्रतिपूर्ति करनी होगी और यदि कोई लाभ हो तो उसे उसका लेखा लेना होगा।

दृष्टांत

(क) क, एक अभिकर्ता, जो ख की ओर से ऐसा कारबार करने में लगा है, जिसमें यह रूढ़ि है कि समय-समय पर जो रुपए हाथ में आएं उसे ब्याज पर विनिहित कर दिया जाए, उसका वैसा विनिधान करने का लोप करता है। ख के प्रति उस ब्याज की प्रतिपूर्ति, जो इस प्रकार के विनिधानों से प्रायः अभिप्राप्त होती है, क को करनी होगी।

(ख) एक दलाल, ख जिसके कारबार में उधार बेचने की रूढ़ि नहीं है, क का माल ग को जिसका प्रत्यय उस समय बहुत ऊंचा है, उधार बेचता है। ग, संदाय करने से पूर्व दिवालिया हो जाता है । क की इस हानि की प्रतिपूर्ति ख को करनी होगी।

धारा 211 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 211  in English ] –

“Agent’s duty in conducting principal’s business”–

An agent is bound to conduct the business of his principal according to the directions given by the principal, or, in the absence of any such directions, according to the custom which prevails in doing business of the same kind at the place where the agent conducts such business. When the agent acts otherwise, if any loss be sustained, he must make it good to his principal, and if any profit accrues, he must account for it.

Illustrations

(a) A, an agent engaged in carrying on for B a business, in which it is the custom to invest from time to time, at interest, the moneys which may be in hand, omits to make such investment. A must make good to B the interest usually obtained by such investments.

(b) B, a broker, in whose business it is not the custom to sell on credit, sells goods of A on credit to C, whose credit at the time was very high. C, before payment, becomes insolvent. B must make good the loss to A.

धारा 211 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation actSection 1 of limitation act
Updated: May 12, 2020 — 8:41 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.