Home LAW धारा 208 CrPC | Section 208 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 208 CrPC | Section 208 CrPC in Hindi | CrPC Section 208

1469
0
section 208 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “सेशन न्यायालय द्वारा विचारणीय अन्य मामलों में अभियुक्त को कथनों और दस्तावेजों की प्रतिलिपियां देना | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 208 क्या है | section 208 CrPC in Hindi | Section 208 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 208 | Supply of copies of statements and documents to accused in other cases triable by Court of Session के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 208 |  Section 208 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 208 in Hindi ] –

सेशन न्यायालय द्वारा विचारणीय अन्य मामलों में अभियुक्त को कथनों और दस्तावेजों की प्रतिलिपियां देना-

जहां पुलिस रिपोर्ट से भिन्न आधार पर संस्थित किसी मामले में, धारा 204 के अधीन आदेशिका जारी करने वाले मजिस्ट्रेट को यह प्रतीत होता है कि अपराध अनन्यतः सेशन न्यायालय द्वारा विचारणीय है, वहां मजिस्ट्रेट निम्नलिखित में से प्रत्येक की एक प्रतिलिपि अभियुक्त को अविलंब निःशुल्क देगा:

(i) उन सभी व्यक्तियों के, जिनकी मजिस्ट्रेट द्वारा परीक्षा की जा चुकी है, धारा 200 या धारा 202 के अधीन लेखबद्ध किए

गए कथन;

(ii) धारा 161 या धारा 164 के अधीन लेखबद्ध किए गए कथन, और संस्वीकृतियां, यदि कोई हों;

(iii) मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश की गई कोई दस्तावेजें, जिन पर निर्भर रहने का अभियोजन का विचार है : परंतु यदि मजिस्ट्रेट का समाधान हो जाता है कि ऐसी कोई दस्तावेज विशालकाय है, तो वह अभियुक्त को उसकी प्रतिलिपि देने के बजाय यह निदेश देगा कि उसे स्वयं या प्लीडर द्वारा न्यायालय में उसका निरीक्षण ही करने दिया जाएगा।

धारा 208 CrPC

[ CrPC Sec. 208 in English ] –

“ Supply of copies of statements and documents to accused in other cases triable by Court of Session”–

Where, in a case instituted otherwise than on a police report, it appears to the Magistrate issuing process under section 204 that the offence is triable exclusively by the Court of Session, the Magistrate shall without delay furnish to the accused, free of cost, a copy of each of the following:-

(i) the statements recorded under section 200 or section 202, of all persons examined by the Magistrate;
(ii) the statements and confessions, if any, recorded under section 161 or section 164;
(iii) any documents produced before the Magistrate on which the prosecution proposes to rely: Provided that if the Magistrate is satisfied that any such document is voluminous, he shall, instead of furnishing the accused with a copy thereof, direct that he will only be allowed to inspect it either personally or through pleader in Court.

धारा 208 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here