Home LAW धारा 2 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 2 of Specific relief act in...

धारा 2 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 2 of Specific relief act in Hindi

1032
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “परिभाषाएँ | विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 2 क्या है | Section 2 Specific relief act in Hindi | Section 2 of Specific relief act | धारा 2 विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम | Definition के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 2 |  Section 2 of Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 2 in Hindi ] –

परिभाषाएँ-

इस अधिनियम में, जब तक कि संदर्भ से अन्यथा अपेक्षित न हो,

(क) “बाध्यता” के अंतर्गत विधि द्वारा प्रवर्तनीय हर एक कर्तव्य आता है;

(ख) “व्यवस्थापन” से [भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925 (1925 का 39) द्वारा यथापरिभाषित बिल अथवा क्रोड़पत्र से भिन्ना] ऐसी लिखत अभिप्रेत है जिसके द्वारा जंगम या स्थावर सम्पत्ति में के क्रमवर्ती हितों के गन्तव्य अथवा न्यागमन को व्ययनित किया जाता है या उसका व्ययनित किया जाना कारित होता है;

(ग )“न्यास” का वही अर्थ है जो भारतीय न्यास अधिनियम, 1982 (1882 का 2) की धारा 3 में है और उस अधिनियम के अध्याय 9 के अर्थ के भीतर आने वाली न्यास प्रकृति की बाध्यता इसके अन्तर्गत आती है;

(घ) “न्यासी” के अन्तर्गत हर ऐसा व्यक्ति आता है जो सम्पत्ति को न्यासत: धारण किए हुए है।

(ङ) ऐसे अन्य सब शब्दों और पदों के, जो एतस्मिन् प्रयुक्त हैं किन्तु परिभाषित नहीं हैं, और भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 (1872 का 9) में परिभाषित हैं, वे ही अर्थ होंगे जो उस अधिनियम में उन्हें क्रमशः समनुदिष्ट हैं।

धारा 2 Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 2 in English ] –

“Definition ”–

In this Act, unless the context otherwise requires,—

(a) “obligation” includes every duty enforceable by law;

(b) “settlement” means an instrument (other than a will or codicil as defined by the Indian Succession Act, 1925 (39 of 1925), whereby the destination or devolution of successive interests in movable or immovable property is disposed of or is agreed to be disposed of;

(c)  “trust” has the same meaning as in section 3 of the Indian Trusts Act, 1882 (2 of 1882), and includes an obligation in the nature of a trust within the meaning of Chapter IX of that Act;

(d) “trustee” includes every person holding property in trust;

(e) all other words and expressions used herein but not defined, and defined in the Indian Contract Act, 1872 (9 of 1872), have the meanings respectively assigned to them in that act.

धारा 2 Specific relief act

Specific relief Act Pdf download in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here