Home LAW धारा 182 CrPC | Section 182 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 182 CrPC | Section 182 CrPC in Hindi | CrPC Section 182

3445
0
section 182 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको पत्रों, आदि द्वारा किए गए अपराध  | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 182 क्या है | section 182 CrPC in Hindi | Section 182 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 182 |  Offences committed by letters, etcके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 182 |  Section 182 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 182 in Hindi ] –

पत्रों, आदि द्वारा किए गए अपराध-

(1) किसी ऐसे अपराध की, जिसमें छल करना भी है, जांच या उनका विचारण. उस दशा में जिसमें ऐसी प्रवंचना पत्रों या दूरसंचार संदेशों के माध्यम से की गई है ऐसे न्यायालय द्वारा किया जा सकता है जिसकी स्थानीय अधिकारिता के अंदर ऐसे पत्र या संदेश भेजे गए हैं या प्राप्त किए गए हैं तथा छल करने और बेईमानी से संपत्ति का परिदान उप्रेरित करने वाले किसी अपराध की जांच या उनका विचारण ऐसे न्यायालय द्वारा किया जा सकता है जिसकी स्थानीय अधिकारिता के अंदर संपत्ति, प्रवंचित व्यक्ति द्वारा परिदत्त की गई है या अभियुक्त व्यक्ति द्वारा प्राप्त की गई है।

(2) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 494 या धारा 495 के अधीन दंडनीय किसी अपराध की जांच या उनका विचारण ऐसे न्यायालय द्वारा किया जा सकता है जिसकी स्थानीय अधिकारिता के अंदर अपराध किया गया है या अपराधी ने प्रथम विवाह की अपनी पत्नी या पति के साथ अंतिम बार निवास किया है या प्रथम विवाह की पत्नी अपराध के किए जाने के पश्चात् स्थायी रूप से निवास करती है।

धारा 182 CrPC

[ CrPC Sec. 182 in English ] –

“Offences committed by letters, etc”–

(1) Any offence which includes cheating may, if the deception is practised by means of letters or telecommunication messages, be inquired into or tried by any Court within whose local jurisdiction such letters or messages were sent or were received; and any offence of cheating and dishonestly inducing delivery of property may be inquired into or tried by a Court within whose local jurisdiction the property was delivered by the person deceived or was received by the accused person.
(2) Any offence punishable under section 494 or section 495 of the Indian Penal Code (45 of 1860 ) may be inquired into or tried by a Court within whose local jurisdiction the offence was committed or the offender last resided with his or her spouse by the first marriage 1 or the wife by the first marriage has taken up permanent residence after the commission of the offence].

धारा 182 CrPC

Previous articleधारा 181 CrPC | Section 181 CrPC in Hindi | CrPC Section 181
Next articleधारा 183 CrPC | Section 183 CrPC in Hindi | CrPC Section 183

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here