Home LAW धारा 18 साक्ष्य अधिनियम | Section 18 of Indian Evidence Act Hindi

धारा 18 साक्ष्य अधिनियम | Section 18 of Indian Evidence Act Hindi

1494
0
Section 18 of Indian Evidence Act

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ स्वीकृति–कार्यवाही के पक्षकार या उसके अभिकर्ता द्वारा | साक्ष्य अधिनियम की धारा 18 क्या है | Section 18 Indian Evidence Act in Hindi | Section 18 of Indian Evidence Act | धारा 18 साक्ष्य अधिनियम | Admission––by party to proceeding or his agent   के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

साक्ष्य अधिनियम की धारा 18 |  Section 18 of Indian Evidence Act | Section 18 Indian Evidence Act in Hindi

[ Indian Evidence Act Section 18 in Hindi ] –

” स्वीकृति–कार्यवाही के पक्षकार या उसके अभिकर्ता द्वारा”

वे कथन स्वीकृतियां हैं, जिन्हें कार्यवाही के किसी पक्षकार ने किया हो, या ऐसे किसी पक्षकार के ऐसे किसी अभिकर्ता ने किया हो जिसे मामले की परिस्थितियों में न्यायालय उन कथनों को करने के लिए उस पक्षकार द्वारा अभिव्यक्त या विवक्षित रूप से प्राधिकृत किया हुआ मानता है।

प्रतिनिधिक रूप से वादकर्ता द्वारा–वाद के ऐसे पक्षकारों द्वारा, जो प्रतिनिधिक हैसियत में वाद ला रहे हों या जिन पर प्रतिनिधिक हैसियत में बाद लाया जा रहा हो, किए गए कथन, जब तक कि वे उस समय न किए गए हों जबकि उनको करने वाला पक्षकार वैसी हैसियत धारण करता था, स्वीकृतियां नहीं हैं।

वे कथन स्वीकृतियां हैं, जो-

(1) विषयवस्तु में हितबद्ध पक्षकार द्वारा ऐसे व्यक्तियों द्वारा किए गए हैं, जिनका कार्यवाही की विषयवस्तु में कोई साम्पत्तिक या धन संबंधी हित है और जो इस प्रकार हितबद्ध व्यक्तियों की हैसियत में वह कथन करते हैं, अथवा

(2) उस व्यक्ति द्वारा जिससे हित व्युत्पन्न हुआ हो—ऐसे व्यक्तियों द्वारा किए गए हैं, जिनसे वाद के पक्षकारों का वाद की विषयवस्तु में अपना हित व्युत्पन्न हुआ है। यदि वे कथन उन्हें करने वाले व्यक्तियों के हित के चालू रहने के दौरान में किए गए हैं।

धारा 18 Indian Evidence Act

[ Indian Evidence Act Sec. 18 in English ] –

Admission––by party to proceeding or his agent”–

 Statements made by a party to the proceeding, or by an agent to any such party, whom the Court regards, under the circumstances of the case, as expressly or impliedly authorized by him to make them, are admissions. 

by suitor in representative character. –– Statements made by parties to suits suing or sued in a representative character, are not admissions, unless they were made while the party making them held that character. 

Statements made by –– 

(1) by party interested in subject-matter.–– persons who have any proprietary or pecuniary interest in the subject-matter of the proceeding, and who make the statement in their character of persons so interested, or 

(2) by person from whom interest derived.–– persons from whom the parties to the suit have derived their interest in the subject-matter of the suit, 

are admissions, if they are made during the continuance of the interest of the persons making the statements.

धारा 18 Indian Evidence Act 

साक्ष्य अधिनियम  

Pdf download in hindi

Indian Evidence Act

Pdf download in English 

  • Evidence act sections Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Ipc sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Ipc sections
    Section 1 of Indian Evidence Act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here