धारा 178A संविदा अधिनियम | Section 178A Indian Contract act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “शून्यकरणीय संविदा के अधीन कब्जा रखने वाले व्यक्ति द्वारा गिरवी | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 178A क्या है | Section 178A Indian Contract act in Hindi | Section 178A of Indian Contract act | धारा 178A भारतीय संविदा अधिनियम | Pledge by person in possession under voidable contractके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 178A |  Section 178A of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 178A in Hindi ] –

शून्यकरणीय संविदा के अधीन कब्जा रखने वाले व्यक्ति द्वारा गिरवी–

जबकि पणयमकार ने अपने द्वारा गिरवीकृत माल का कब्जा धारा 19 या धारा 19क के अधीन शून्यकरणीय किसी संविदा के अधीन अभिप्राप्त किया हो, किन्तु संविदा गिरवी के समय विखण्डित न हो चुकी हो, तो पणयमदार उस माल पर अच्छा हक अर्जित कर लेता है, परन्तु यह तब जबकि वह सद्भावपूर्वक और पणयमकार के हक की त्रुटि की सूचना के बिना कार्य करे।

धारा 178A Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 178A  in English ] –

“Pledge by person in possession under voidable contract”–

When the pawnor has obtained possession of the goods pledged by him under a contract voidable under section 19 or section 19A, but the contract has not been rescinded at the time of the pledge, the pawnee acquires a good title to the goods, provided he acts in good faith and without notice of the pawnor‟s defect of title.

धारा 178A Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation actSection 1 of limitation act
Updated: May 10, 2020 — 9:08 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.