Home LAW धारा 173 संविदा अधिनियम | Section 173 Indian Contract act in Hindi

धारा 173 संविदा अधिनियम | Section 173 Indian Contract act in Hindi

2110
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “पणयमदार का प्रतिधारण का अधिकार | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 173 क्या है | Section 173 Indian Contract act in Hindi | Section 173 of Indian Contract act | धारा 173 भारतीय संविदा अधिनियम | Pawnee’s right of retainerके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 173 |  Section 173 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 173 in Hindi ] –

पणयमदार का प्रतिधारण का अधिकार—

पणयमदार गिरवी माल का प्रतिधारण न केवल ऋण के संदाय के लिए या वचन के पालन के लिए कर सकेगा वरन् ऋण के व्याज और गिरवी माल के कब्जे के बारे में या परीक्षण के लिए अपने द्वारा उपगत सारे आवश्यक व्ययों के लिए भी कर सकेगा।

धारा 173 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 173  in English ] –

“Pawnee’s right of retainer”–

The pawnee may retain the goods pledged, not only for payment of the debt or the performance of the promise, but for the interest of the debt, and all necessary expenses incurred by him in respect of the possession or for the preservation of the goods pledged.

धारा 173 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation act Section 1 of limitation act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here