धारा 16 हिन्दू विवाह अधिनियम | Section 16 of Hindu Marriage Act Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको शून्य और शून्यकरणीय विवाहों के अपत्यों की धर्मजता   | हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 16 क्या है | Section 16 Hindu Marriage Act in Hindi | Section 16 of Hindu Marriage Act | धारा 16 हिन्दू विवाह अधिनियम | Legitimacy of children of void and voidable marriages के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 16 |  Section 16 of Hindu Marriage Act | Section 16 Hindu Marriage Act in Hindi

[ Hindu Marriage Act Section 16 in Hindi ] –

“शून्य और शून्यकरणीय विवाहों के अपत्यों की धर्मजता  “

 (1) इस बात के होते हुए भी कि विवाह धारा 11 के अधीन अकत और शून्य है. ऐसे विवाह का कोई अपत्य, जो विवाह के विधिमान्य होने की दशा में धर्मज होता, धर्मज होगा, चाहे ऐसे अपत्य का जन्म विवाह विधि (संशोधन) अधिनियम, 1976 के प्रारम्भ से पूर्व हुआ हो या पश्चात् और चाहे उस विवाह के सम्बन्ध में अकुतता की डिक्री इस अधिनियम के अधीन मन्जूर की गई हो या नहीं और चाहे वह विवाह इस अधिनियम के अधीन अर्जी से भिन्न आधार पर शून्य अभिनिर्धारित किया गया हो या नहीं।

(2) जहाँ धारा 12 के अधीन शून्यकरणीय विवाह के सम्बन्ध में अकृतता की डिक्री मन्जूर की जाती है, वहाँ डिक्री की जाने से पूर्व जनित या गर्भाहित ऐसा कोई अपत्य, जो यदि विवाह डिक्री की तारीख को अकृत किये जाने के बजाय विघटित किया गया होता तो विवाह के पक्षकारों का धर्मज अपत्य होता, अकृतता की डिक्री होते हुए भी उनका धर्मज अपत्य समझा जायेगा।

(3) उपधारा (1) या उपधारा (2) में की किसी बात का यह अर्थ नहीं लगाया जायेगा कि वह ऐसे विवाह के किसी अपत्य को, जो अकृत और शून्य है या जिसे धारा 12 के अधीन अकृतता की डिक्री द्वारा अकृत किया गया है, उसके माता-पिता से भिन्न किसी व्यक्ति की सम्पत्ति में या सम्पति के प्रति कोई अधिकार किसी ऐसी दशा में प्रदान करती है जिसमें कि यह अधिनियम पारित न किया गया होता तो वह अपत्य अपने माता-पिता का धर्मज अपत्य न होने के कारण ऐसा कोई अधिकार रखने या अजित करने में असमर्थ होता।

धारा 16 Hindu Marriage Act

[ Hindu Marriage Act Sec. 16 in English ] –

Legitimacy of children of void and voidable marriages”–

(1) Notwithstanding that a marriage is null and void under Section 11, any child of such marriage who would have been legitimate if the marriage had been valid, shall be legitimate, whether such a child is born before or after the commencement of the Marriage Laws (Amendment) Act, 1976, and whether or not a decree of nullity is granted in respect of the marriage under this Act and whether or not the marriage is held to be void otherwise than on a petition under this Act. 

(2) Where a decree of nullity is granted in respect of a voidable marriage under Section 12, any child begotten or conceived before the decree is made, who would have been the legitimate child of the parties to the marriage if at the date of the decree it had been dissolved instead of being annulled, shall be deemed to be their legitimate child notwithstanding the decree of nullity. 

(3) Nothing contained in sub-section (1) or sub-section (2) shall be construed as conferring upon any child of a marriage which is null and void or which is annulled by a decree of nullity under Section 12, any rights in or to the property of any person, other than the parents, in any case, where, but for the passing of this Act, such child would have been incapable of possessing or acquiring any such rights by reason of his not being the legitimate child of his parents. 

धारा 16 Hindu Marriage Act


हिन्दू विवाह अधिनियम  

PDF download in Hindi

Hindu Marriage Act

Pdf download in English 

Section 2 of Hindu Marriage Act Ipc sections
Section 2 of Hindu Marriage Act Section 1 of Child Labour Act
Section 2 of Hindu Marriage Act Section 1 of Child Labour Act
Section 2 of Hindu Marriage Act Section 1 of Child Labour Act
Section 2 of Hindu Marriage Act Section 1 of Child Labour Act
Section 2 of Hindu Marriage Act Section 1 of Child Labour Act

 

Updated: June 7, 2020 — 8:15 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.