Home LAW धारा 116 सम्पत्ति अन्तरण | Section 116 of Transfer of property Act

धारा 116 सम्पत्ति अन्तरण | Section 116 of Transfer of property Act

2338
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ अतिधारण का प्रभाव | सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 116 क्या है | Section 116 Transfer of property Act in hindi | Section 116 of Transfer of property Act | धारा 116 सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम | Effect of holding over के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 116 |  Section 116 of Transfer of property Act | Section 116 Transfer of property Act in Hindi

[ Transfer of property Act Section 116 in Hindi ] –

अतिधारण का प्रभाव-

यदि सम्पत्ति का पट्टेदार या उपपट्टेदार पट्टेदार को अनुदत्त पट्टे के पर्यवसान के पश्चात् उस पर अपना कब्जा बनाए रखता है और पट्टाकर्ता या उसका विधिक प्रतिनिधि पट्टेदार या उपट्टेदार से भाटक प्रतिगृहीत करता है या कब्जा बनाए रखने के लिए अन्यथा उसको अनुमति देता है तो तत्प्रतिकूल करार के अभाव में पट्टा धारा 106 में यथा विनिर्दिष्ट उस प्रयोजन के अनुसार, जिसके लिए सम्पत्ति पट्टे पर दी गई थी, वर्षानुवर्ष या मासानुमास के लिए नवीकृत हो जाता है।

दृष्टांत

(क) क एक गृह ख को पांच वर्ष के लिए पट्टे पर देता है । ख वह गृह को 100 रुपए मासिक भाटक पर उपट्टे पर देता है। पांच वर्ष का अवसान हो जाता है किन्तु ग गृह पर कब्जा बनाए रखता है और क को भाटक देता है । ग का पट्टा मासानुमान नवीकृत होता रहता है।

(ख) ख को एक एक फार्म ग के जीवनपर्यन्त के लिए पट्टे पर देता है। ग की मृत्यु हो जाती है, किन्तु क की अनुमति से ख कजा बनाए रखता है । ख का पट्टा वर्षानुवर्ष नवीकृत होता रहता है।

धारा 116 Transfer of property Act

[ Transfer of property Act Sec. 116 in English ] –

Effect of holding over”–

If a lessee or under-lessee of property remains in possession thereof after the determination of the lease granted to the lessee, and the lessor or his legal representative accepts rent from the lessee or under-lessee, or otherwise assents to his continuing in possession, the lease is, in the absence of an agreement to the contrary, renewedfrom year to year, or from month to month, according to the purpose for which the property is leased, as specified in section 106. 

Illustrations 

(a) A lets a house to B for five years. B underlets the house to C at a monthly rent of Rs. 100. The five years expire, but C continues in possession of the house and pays the rent to A. C’s lease is renewed from month to month. 

(b) A lets a farm to B for the life of C. C dies, but B continues in possession with A’s assent. B’s lease is renewed from year to year.

धारा 116 Transfer of property Act 

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम  

Pdf download in hindi

Transfer of property Act

Pdf download in English 

Pocso Act sections list Domestic violence act sections list

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here