Home LAW धारा 105j CrPC | Section 105j CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 105j CrPC | Section 105j CrPC in Hindi | CrPC Section 105j

1013
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “कुछ अंतरणों का अकृत और शून्य होना | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 105j क्या है | section 105j CrPC in Hindi | Section 105j in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 105j | Certain transfers to be null and voidके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 105j |  Section 105j in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 105j in Hindi ] –

कुछ अंतरणों का अकृत और शून्य होना—

जहां धारा 105 की उपधारा (1) के अधीन कोई आदेश करने या धारा 105छ के अधीन कोई सूचना जारी करने के पश्चात्, उक्त आदेश या सूचना में निर्दिष्ट कोई संपत्ति किसी भी रीति से अंतरित कर दी जाती है वहां इस अध्याय के अधीन कार्यवाहियों के प्रयोजनों के लिए, ऐसे अंतरणों पर ध्यान नहीं दिया जाएगा और यदि ऐसी संपत्ति बाद में धारा 105ज के अधीन केंद्रीय सरकार को समपहृत हो जाती है तो ऐसी संपत्ति का अंतरण अकृत और शून्य समझा जाएगा।

धारा 105j CrPC

[ CrPC Sec. 105j in English ] –

“ Certain transfers to be null and void ”–

Where after the making of an order under Sub-Section (1) of section 105E or the issue of a notice under section 105G, any property referred to in the said order or notice is transferred by any mode whatsoever such transfers shall, for the purposes of the proceedings under this Chapter, be ignored and if such property is subsequently forfeited to the Central Government under section 160H, then the transfer of such property shall be deemed to be null and void.

धारा 105j CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here