धारा 105 साक्ष्य अधिनियम | Section 105 of Indian Evidence Act Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ यह साबित करने का भार कि अभियुक्त का मामला अपवादों के अन्तर्गत आता है | साक्ष्य अधिनियम की धारा 105 क्या है | Section 105 Indian Evidence Act in Hindi | Section 105 of Indian Evidence Act | धारा 105 साक्ष्य अधिनियम | Burden of proving that case of accused comes within exceptions के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

साक्ष्य अधिनियम की धारा 105 |  Section 105 of Indian Evidence Act | Section 105 Indian Evidence Act in Hindi

[ Indian Evidence Act Section 105 in Hindi ] –

“यह साबित करने का भार कि अभियुक्त का मामला अपवादों के अन्तर्गत आता है “

जबकि कोई व्यक्ति किसी अपराध का अभियुक्त है, तब उन परिस्थितियों के अस्तित्व को साबित करने का भार, जो उस मामले को भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) के साधारण अपवादों में से किसी के अन्तर्गत या उसी संहिता के किसी अन्य भाग में, या उस अपराध की परिभाषा करने वाली किसी विधि में, अन्तर्विष्ट किसी विशेष अपवाद या परन्तुक के अन्तर्गत कर देती है, उस व्यक्ति पर है और न्यायालय ऐसी परिस्थितियों के अभाव की उपधारणा करेगा।

दृष्टांत

(क) हत्या का अभियुक्त, क अभिकथित करता है कि वह चित्तविकृति के कारण उस कार्य की प्रकृति नहीं जानता था। सबूत का भार क पर है।

(ख) हत्या का अभियुक्त, क, अभिकथित करता है कि वह गम्भीर और अचानक प्रकोपन के कारण आत्मनियंत्रण की शक्ति से वंचित हो गया था।

सबूत का भार क पर है।

(ग) भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) की धारा 325 उपबन्ध करती है कि जो कोई, उस दशा के सिवाय जिसके लिए धारा 335 में उपबन्ध है, स्वेच्छया घोर उपहति करेगा, वह अमुक दण्डों से दण्डनीय होगा।

क पर स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने का, धारा 325 के अधीन आरोप है।

इस मामले को धारा 335 के अधीन लाने वाली परिस्थितियों को साबित करने का भार क पर है।

धारा 105 Indian Evidence Act

[ Indian Evidence Act Sec. 105 in English ] –

“ Burden of proving that case of accused comes within exceptions”–

When a person is accused of any offence, the burden of proving the existence of circumstances bringing the case within any of the General Exceptions in the Indian Penal Code (45 of 1860), or within any special exception or proviso contained in any other part of the same Code, or in any law defining the offence, is upon him, and the Court shall presume the absence of such circumstances. 

Illustrations 

(a) A, accused of murder, alleges that, by reason of unsoundness of mind, he did not know the nature of the act. 

The burden of proof is on A. 

(b) A, accused of murder, alleges that, by grave and sudden provocation, he was deprived of the power of self-control. 

The burden of proof is on A.

(c) Section 325 of the Indian Penal Code (45 of 1860) provides that whoever, except in the case provided for by section 335, voluntarily causes grievous hurt, shall be subject to certain punishments. 

A is charged with voluntarily causing grievous hurt under section 325. 

The burden of proving the circumstances bringing the case under section 335 lies on A.

धारा 105 Indian Evidence Act 

साक्ष्य अधिनियम  

Pdf download in hindi

Indian Evidence Act

Pdf download in English 

Ipc sections Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act

 

Updated: June 2, 2020 — 10:37 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.