Home ALL POST शिर्डी साईं बाबा का इतिहास | Sai baba history Hindi

शिर्डी साईं बाबा का इतिहास | Sai baba history Hindi

117
0
Sai baba history Hindi

शिर्डी साईं बाबा का इतिहास | Sai baba history Hindi

Sai baba history Hindi

Sai baba history Hindi

साईं बाबा का जन्म 28 सितंबर, 1836 ई. में हुआ था। इनके जन्म स्थान, जन्म दिवस और असली नाम के बारे में भी सही-सही जानकारी नहीं है।

लेकिन एक अनुमान के अनुसार साईं बाबा का जीवन काल 1838 से 1918 के बीच माना जाता है।

फिर भी उनके आरंभिक वर्षों के बारे में रहस्य बना हुआ है। अधिकांश विवरणों के अनुसार बाबा एक ब्राह्मण परिवार में जन्मे और बाद में एक सूफ़ी फ़क़ीर द्वारा गोद ले लिए गए थे।

आगे चलकर उन्होंने स्वयं को एक हिन्दू गुरु का शिष्य बताया। लगभग 1858 में साईं बाबा पश्चिम भारतीय राज्य महाराष्ट्र के एक गाँव शिरडी पहुँचे और फिर आजीवन वहीं रहे।

साईं बाबा मुस्लिम टोपी पहनते थे और जीवन में अधिंकाश समय तक वह शिरडी की एक निर्जन मस्जिद में ही रहे, जहाँ कुछ सूफ़ीपरंपराओं के पुराने रिवाज़ों के अनुसार वह धूनी रमाते थे।

मस्जिद का नाम उन्होंने ‘द्वारकामाई’ रखा था, जो निश्चित्त रूप से एक हिन्दू नाम था। कहा जाता है कि उन्हें पुराणों, भगवदगीता और हिन्दू दर्शन की विभिन्न शाखाओं का अच्छा ज्ञान था।

Sai baba history Hindi

नाम की उत्पत्ति

बाबा के नाम की उत्पत्ति ‘साईं’ शब्द से हुई है, जो मुस्लिमों द्वारा प्रयुक्त फ़ारसी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ होता है- पूज्य व्यक्ति और बाबा पिता के लिए एक हिन्दी शब्द।

Sai baba history Hindi

अनुयायी

साई बाबा एक ऐसे आध्यात्मिक गुरु और फ़कीर थे, जो धर्म की सीमाओं में कभी नहीं बंधे। वास्तविकता तो यह है कि उनके अनुयायियों में हिन्दू और मुस्लिमों की संख्या बराबर थी।

श्रद्धा और सबूरी यानी संयम उनके विचार-दर्शन का सार है। उनके अनुसार कोई भी इंसान अपार धैर्य और सच्ची श्रद्धा की भावना रखकर ही ईश्वर की प्राप्ति कर सकता है।

सबका मालिक एक है के उद्घोषक वाक्य से शिरडी के साईं बाबा ने संपूर्ण जगत को सर्वशक्तिमान ईश्वर के स्वरूप का साक्षात्कार कराया।

उन्होंने मानवता को सबसे बड़ा धर्म बताया और कई ऐसे चमत्कार किए, जिनसे लोग उन्हें भगवान की उपाधि देने लगे। आज भी साईं बाबा के भक्तों की संख्या को लाखों-करोड़ों में नहीं आंका जा सकता।

Sai baba history Hindi

शिरडी में आगमन

कहा जाता है कि सोलह वर्ष की अवस्था में साईं बाबा महाराष्ट्र के अहमदनगर के शिरडी गाँव पहुँचे थे और जीवन पर्यन्त उसी स्थान पर निवास किया।

शुरुआत में शिरडी के ग्रामीणों ने पागल बताकर उनकी अवमानना की, लेकिन शताब्दी के अंत तक उनके सम्मोहक उपदेशों और चमत्कारों से आकर्षित होकर हिन्दुओं और मुस्लिमों की एक बड़ी संख्या उनकी अनुयायी बन गई।

कुछ लोग मानते थे कि साईं के पास अद्भुत दैवीय शक्तियाँ थीं, जिनके सहारे वे लोगों की मदद किया करते थे।

लेकिन खुद कभी साईं ने इस बात को नहीं स्वीकारा। उनके चमत्कार अक्सर मनोकामना पूरी करने वाले रोगियों के इलाज़ से संबंधित होते थे।

Sai baba history Hindi

वे कहा करते थे कि मैं लोगों की प्रेम भावना का ग़ुलाम हूँ। सभी लोगों की मदद करना मेरी मजबूरी है।

सच तो यह है कि साईं हमेशा फ़कीर की साधारण वेश-भूषा में ही रहते थे। वे जमीन पर सोते थे और भीख माँग कर अपना गुजारा करते थे।

कहते हैं कि उनकी आंखों में एक दिव्य चमक थी, जो लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती थी। साई बाबा का एक ही लक्ष्य था- “लोगों में ईश्वर के प्रति विश्वास पैदा करना”।

Sai baba history Hindi

बाबा की शिक्षा

१ – साईं बाबा ने हर जाति और धर्म के लोगों को एकता का पाठ पढ़ाया। उन्होंने सदा ही सभी से एक ही बात कही- सबका मालिक एक।

२ – जाति, धर्म, समुदाय, इत्यादि व्यर्थ बातों में ना पड़कर आपसी मतभेद को दूर कर आपस में प्रेम और सद्भावना से रहना चाहिए, क्योंकि सबका मलिक एक है। यह साईं बाबा की सबसे बड़ी शिक्षा और संदेश है।

३ – साईं बाबा ने यह संदेश भी दिया कि हमेशा श्रद्धा, विश्‍वास और सबूरी (सब्र) के साथ जीवन व्यतीत करना चाहिए।

४ – लोगों में मानवता के प्रति सम्मान का भाव पैदा करने के लिए साईं ने संदेश दिया है कि किसी भी धर्म की अवहेलना नहीं करें। उन्होंने कहा है कि सर्वधर्म सम्मान करते हुए मानवता की सेवा करनी चाहिए, क्योंकि मानवता ही सबसे बड़ा धर्म है।

Sai baba history Hindi

५ – साईं सदैव कहते थे कि जाति, समाज, भेदभाव को भगवान ने नहीं बल्कि इंसान ने बनाया है। ईश्वर की नजर में कोई ऊंचा या नीचा नहीं है।

अत: जो कार्य स्वयं ईश्वर को पसंद नहीं है, उसे इंसानों को भी नहीं करना चाहिए, अर्थात जाति, धर्म, समाज से जुड़ी मिथ्या बातों में ना पड़कर प्रेमपूर्वक रहें और ग़रीबों और लाचार की मदद करें, क्योंकि यही सबसे बड़ी पूजा है।

६ – बाबा जी का यह कहना था कि जो व्यक्ति ग़रीबों और लाचारों की मदद करता है, ईश्वर स्वंय उसकी मदद करते हैं।

७ – साईं बाबा ने सदैव माता-पिता, बुजुर्गों, गुरुजनों और बड़ों का सम्मान करने की सीख दी। उनका कहना था कि ऐसा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है, जिससे हमारे जीवन की मुश्किलें आसान हो जाती हैं।

८ – साईं के सिद्धांतों में दया और विश्वास अंतर्निहित है। उनके अनुसार अगर इन दोनों को अपने जीवन में समाहित किया जाए, तभी भक्ति का अनुराग मिलता है।

Sai baba history Hindi

उपदेश

साईं बाबा के उपदेश अक्सर विरोधाभासी दृष्टांत के रूप में होते थे और उसमें हिन्दुओं तथा मुस्लिमों को जकड़ने वाली कट्टर औपचारिकता के प्रति तिरस्कार तथा साथ ही ग़रीबों और रोगियों के प्रति सहानुभूति परिलक्षित होती थी।

 शिरडी एक प्रमुख तीर्थ स्थल है तथा उपासनी बाबा और मेहर बाबा जैसी आध्यात्मिक हस्तियाँ साईं बाबा के उपदेशों को मान्यता देती हैं

Sai baba history Hindi

साईं बाबा के अनमोल वचन 

१ – आने वाला जीवन तभी शानदार हो सकता है, जब तुम ईश्वर के साथ पूर्ण सद्भाव में जीना सीख जाओगे।

२ – मनुष्य अपने स्वाद की तृप्ति के लिए प्रकृति में उपलब्ध खाद्य पदार्थों में बदलाव चाहता है, जिससे उनमें निहित जीवन के बहुत सार अंत को प्राप्त होते हैं।

३ – तुम्हें एक कमल की तरह होना चाहिए, जो सूर्य के प्रकाश में अपनी पंखुड़ियों को खोल देती है। कीचड़ में जन्म लेने या अपने अन्दर जलकी उपस्थिति से अप्रभावित जो इसे जीवित रखता है।

४ – मनुष्य अनुभव के माध्यम से सीखता है, और आध्यात्मिक पथ विभिन्न प्रकार के अनुभवों से भरा है। उसे कई कठिनाइयों और बाधाओं का सामना करना होगा, और वे सारे अनुभव जो उसे प्रोत्साहित करने और सफाई की प्रक्रिया पूरा करने लिए ज़रूरी हैं।

५ – सभी कार्य विचारों के परिणाम होते हैं, इसलिए विचार मायने रखते हैं।

Sai baba history Hindi

६ – मनुष्य खो गया है और एक जंगल में भटक रहा है, जहाँ वास्तविक मूल्यों का कोई अर्थ नहीं है। वास्तविक मूल्यों का मनुष्य के लिए तभी अर्थ हो सकता है, जब वह आध्यात्मिक पथ पर कदम बढ़ाये। यह एक ऐसा पथ है, जहाँ नकारात्मक भावनाओं का कोई उपयोग नहीं।

७ – तुम्हें अपने दिनों को गीतों में बिताना चाहिए। तुम्हारा संपूर्ण जीवन एक गीत की तरह हो।

८ – यह दुनिया प्यार के प्रवाह से शुद्ध हो। तब आदमी, उथल-पुथल की स्थिति जो उसने अपने जीवन के पिछले तरीकों के द्वारा, उन सभी सामग्री, हितों और सांसारिक महत्वाकांक्षा के साथ बनाया है कि बजाय शांति से रह सके।

९ – ब्रह्मांड की तरफ देखो और ईश्वर की महिमा का मनन करो। सितारों को देखो, उनमें से लाखों, रात को आसमान में चमकते, सब एकता के संदेश के साथ, ईश्वर के स्वभाव के अंग हैं।

१० – आप अपने चारों ओर देखते हो, इससे गुमराह मत हो, या आप जो भी देखते हो, उससे प्रभावित होते हो। आप एक ऐसी दुनिया में रहते हैं, जो गलत रास्ते, झूठे मूल्यों और झूठे आदर्शों से भरा भ्रम का एक खेल का मैदान है। लेकिन आप उस दुनिया का हिस्सा नहीं हो।

११ – एक घर ठोस नींव पर बनाया जाना चाहिए, यदि इसे टिकाऊ बनाना है। यही सिद्धांत आदमी पर लागू भी होता है, अन्यथा वह भी नरम जमीन में वापस धंस जायेगा और भ्रम की दुनिया द्वारा निगल लिया जायेगा।

Sai baba history Hindi

१२ – दुनिया में क्या नया है? कुछ भी नहीं। दुनिया में क्या पुराना है? कुछ भी नहीं। सब कुछ हमेशा रहा है और हमेशा रहेगा।

१३ – जीवन एक गीत है, इसे गाओ। जीवन एक खेल है, इसे खेलो। जीवन एक चुनौती है, इसका सामना करो। जीवन एक सपना है, इसे अनुभव करो। जीवन एक यज्ञ है, इसे पेश करो। जीवन प्यार है, इसका आनंद लो।

१४ – एक दूसरे से प्रेम करो और उच्च स्तर तक जाने के लिए दूसरों की मदद करो, सिर्फ प्यार देकर। प्रेम संक्रामक और घावों को भरने वाली सबसे बड़ी ऊर्जा है।

१५ – वर्तमान में जीना सबसे ज्यादा मायने रखता है, इस क्षण को जियो, हर पल अभी है। यह इस क्षण के तुम्हारे विचार और कर्म हैं, जो तुम्हारे भविष्य को बनाते हैं। तुम अपने अतीत से जो रूपरेखा बनाते हो, वही तुम्हारे भविष्य के मार्ग की रूपरेखा बनाते हैं।

Sai baba history Hindi

मृत्यु

साईं बाबा अपनी घोषणा के अनुरूप 15 अक्टूबर, 1918 को विजया दशमी के विजय-मुहू‌र्त्त में शारीरिक सीमा का उल्लंघन कर निजधाम प्रस्थान कर गए। इस प्रकार ‘विजया दशमी’ उनका महासमाधि पर्व बन गया। कहते हैं कि आज भी सच्चे साईं-भक्तों को बाबा की उपस्थिति का अनुभव होता है।

शिरडी मंदिर कैसे पहुंचे

यह गाँव महाराष्ट राज्य में अहमदनगर जिला के रहता तहसील के अंतर्गत आता है | इस गाँव में साई बाबा ने कई चमत्कार किये और आज लाखो भक्तो उनके दर्शन करने यहा के प्रसिद्ध समाधी मंदिर में आते है |

शिर्डी गावं ( साईं नगर )  SNSI अच्छी तरह सडको रेलमार्गों से जुड़ा  हुआ है जो  कोपर्गावं १५ किमी की दुरी पर है शिर्डी गावं से जिस पर दिल्ली  से बंगलौर कर्नाटका एक्सप्रेस आती है

Sai baba history Hindi

ट्रेन

मुंबई से शिरडी पहुंचने के लिए जनशताब्दी स्पेशल (01037), शिरडी फास्ट पैसेंजर (51033) ट्रेन प्रतिदिन चलती है. इसके अलावा अगर मनमाड स्टेशन पहुंचना हो तो मुंबई सीएसटी, लोकमान्य टर्मिनल और दादर से करीब 50 ट्रेनें उपलब्ध हैं. अगर आप पुणे से ट्रेन के जरिए शिरडी पहुंचना चाहते हैं तो प्रतिदिन तीन ट्रेनें उपलब्ध हैं.

दिल्ली से ट्रेन के जरिए मनमाड (Manmad) स्टेशन पहुंचे. दिल्ली से मनमाड पहुंचने के लिए प्रतिदिन ट्रेने चलती हैं. पंजाब मेल (12138), स्वर्ण जयंती (12782), झेलम एक्सप्रेस (11078), गोवा एक्सप्रेस (12780), कर्नाटक एक्सप्रेस (12628) समेत कई ट्रेने नई दिल्ली से प्रतिदिन मनमाड के लिए चलती हैं.

अगर आप चेन्नई से शिरडी पहुंचना चाहते हैं तो बुधवार और गुरुवार के दिन चेन्नई सेंट्रल से साईं नगर शिरडी सुपरफास्ट ट्रेन (22601) चलती है जबकि शुक्रवार और शनिवार को साईं नगर शिरडी-चेन्नई सेंट्रल सुपरफास्ट (22602) चलती है.

हैदराबाद से मनमाड जंक्शन के लिए दो ट्रेनें (17058 देवगिरी एक्सप्रेस और 17064 अजंता एक्सप्रेस) प्रतिदिन चलती हैं इसके अलावा पांच अन्य ट्रेनें भी उपलब्ध हैं जो अलग-अलग दिन मनमाड के लिए रवाना होती हैं.

Sai baba history Hindi

सड़क

बई से शिरडी और शिंगणापुर के लिए प्रतिदिन बसें चलती हैं. रात दस बजे के आसपास बोरीवली से बस सेवा शुरू होती है जो अगले दिन सुबह शिरडी पहुंचती है. दिन में साईं के दर्शन और शाम तक शनि शिंगणापुर के दर्शन कर आप राज 10 बजे वापस बस पकड़ लें जो आपको अगले दिन सुबह मुंबई पहुंचा देगी. बस का किराया सुविधाओं के अनुसार 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक हो सकता है.

Sai baba history Hindi

वायु मार्ग

2007 से शिर्डी में एयरपोर्ट बना दिया गया है जिससे मुंबई और हैदराबाद से हवाई जहाज सीधे शिरडी आ सकते है | इसके अलावा पास के शहरो में नाशिक ७५ किमी की दुरी पर है शिर्डी से औरंगाबाद १५० किमी और मुबई २९६ किमी पर है |  

अगर आप देश के दूसरे प्रांत से हवाई मार्ग के जरिए शिरडी पहुंचना चाहते हैं तो मुंबई या पुणे उतर कर यहां से टैक्सी, बस या ट्रेन के जरिए शिरडी (या मनमाड) पहुंच सकते हैं.

Sai baba history Hindi

शिर्डी से मुख्य शहर से दुरी

कोपरगाँव – १५ किमि
मनमाड – ५८किमि 
मुंबई – २६६ किमी 
दिल्ली -1166 किमी 
सूरत – ३७३ किमी 
नागपुर – ६१८किमि 
नासिक – ९० किमी 
हैदराबाद – ६१० किमी 
पुणे –  २०७ किमी 

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here