Home INDIA GK बाल दिवस का महत्व | Children’s day | Bal diwas hindi speech

बाल दिवस का महत्व | Children’s day | Bal diwas hindi speech

1919
0
Childrens day | Bal divas hindi

बाल दिवस ( Children’s day | Bal diwas hindi speech ) का दिन हमारे देश के भविष्य यानी छोटे बच्चों को समर्पित है। भारत में बाल दिवस 14 नवंबर को मनाया जाता है,जो कि भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु की जन्म तिथि है।

ऐसा उनके बच्चों के प्रति असीम प्रेम को देखते हुए किया जाता है। बाल दिवस को मनाने का मुख्य मकसद लोगों के अंदर बाल अधिकारों और बच्चों के शिक्षा के प्रति जागरुकता लाना है।

यही कारण है कि भारत जैसे विकासशील देशों में बाल शोषण और बाल मजदूरी की घटनाओं को देखते हुए, इसका महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

विश्व स्तर पर बाल दिवस  ( Children’s day ) का कार्यक्रम

बाल दिवस का दिन पूरे विश्व भर में अलग-अलग दिन मानाया जाता है पर हर जगह इसका मकसद एक ही होता है, यानी बच्चों के अधिकारों के रक्षा करना और  उन्हें बुनायदी सुविधाएं मुहैया करवाना।

विश्व में पहली बार बाल दिवस का कार्यक्रम जून 1857 में अमेरिका के मैसाच्युसेट्स शहर में पादरी डॉ चार्ल्सलेनर्ड द्वारा आयोजित किया गया था.

हालांकि जून के दूसरे रविवार को आयोजन के कारण इसे पहले इसे फ्लावर संडे का नाम दिया पर बाद में इसके नाम को बदलकर बाल दिवस (चिलड्रेन्स डे) कर दिया गया।

इसी तरह विश्व के विभिन्न देशों में अपनी महत्ता और मान्यताओं के अनुसार इसे अलग-अलग दिन मनाया जाता है और कई सारे देशों में इस दिन राष्ट्रीय अवकाश का दिन भी होता है पर हर जगह इसके आयोजन का अर्थ एक ही होता है.

वह है बाल अधिकारों की रक्षा करने के लिए आगे आना और लोगों में इस विषय के प्रति जागरुकता लाना। यही कारण है कि बाल दिवस का यह कार्यक्रम विश्व भर में इतना लोकप्रिय है और हर देश में काफी उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है।

भारत में बाल दिवस का कार्यक्रम

भारत में बाल दिवस हर वर्ष 14 नवंबर के दिन मनाया जाता है। यह दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु का जन्मदिन है, जिन्हें बच्चे प्रेम से चाचा नेहरु के नाम से भी बुलाते थे और बच्चों के प्रति उनके इसी लगाव को देखते हुए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रुप में मनाया जाता है।

27 मई 1964 को पंडित जवाहर लाल नेहरु के अकस्मात निधन के बाद बच्चों के प्रति उनके लगाव को देखते हुए सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया कि अब से प्रतिवर्ष 14 नवंबर को उनके जन्मदिवस पर बाल दिवस का कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।

इस दिन विद्यालयों और संस्थाओं द्वारा विभिन्न तरह के कार्यक्रम आयोजित किये जाते है जैसे कि खेल प्रतियोगिताएं, फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता, प्रश्नोत्तर प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता आदि।

इस दिन अधिकतर बच्चे फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में अपने प्रिय चाचा नेहरु की वेशभूषा धारण करके आते है।

इन प्रतियोगिताओं के साथ ही अध्यापकों और वरिष्ठजनों द्वारा बच्चों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के विषय में भी बताया जाता है ताकि आगे चलकर वह एक अच्छे और सजग व्यक्ति बन सके।

बाल दिवस ( Children’s day )  का महत्व

हम में से कई लोग सोचते हैं कि बाल दिवस को इतने उत्साह या बड़े स्तर पर मनाने की क्या जरुरत है परन्तु इस बात का अपना ही महत्व है।

ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि बच्चों को देश का भविष्य माना जाता है और यदि बचपन से उन्हें उनके अधिकारों और कर्तव्यों के विषय में पता होगा तो वह अपने खिलाफ होने वाले अत्याचारों और शोषण के विरुद्ध आवाज उठा सकेंगे।

इसके साथ ही यदि उन्हें इन बातो का ज्ञान रहेगा तो उनके अंदर बुराई और अन्याय के प्रति आवाज उठाने की प्रवृत्ति जागृत होगी।

बाल दिवस  पर निबंध  ( Essay on children’s day ) 

प्रस्तावना

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्मदिवस को याद करने के लिये 14 नवंबर को पूरे भारत भर में बाल दिवस मनाया जाता है। ढेर सारे उत्साह और आनन्द के साथ हर वर्ष बाल दिवस के रुप में 14 नवंबर को मनाया जाता है।

ये भारत के महान नेता को श्रद्धांजलि देने साथ ही पूरे देश में बच्चों की स्थिति को सुधारने के लिये मनाया जाता है। नेहरु के बच्चों के प्रति गहरे लगाव और प्यार की वजह से बच्चे उन्हें चाचा नेहरु कहते थे।

बच्चों के प्रति उनके प्यार और जुनून की वजह से उनके जन्मदिवस को बचपन को सम्मान देने के लिये बाल दिवस के रुप में मनाया जाता है। लगभग सभी स्कूल और कलेजों में राष्ट्रीय स्तर पर हर वर्ष याद किया जाता है।

विद्यालयों में बाल दिवस का कार्यक्रम

बच्चों विशेष ध्यान रखने तथा उनके महत्व को देखते हुए विद्यालयों में बाल दिवस के अवसर पर तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।

इस दिन पंडित जवाहर लाल नेहरु को भी विशेष रुप से याद किया जाता है क्योंकि वह एक राष्ट्रीय नेता और प्रसिद्ध हस्ती होने के बावजूद बच्चों से बेहद प्यार करते थे और उनके साथ समय बिताना काफी पसंद करते थे।

इसे एक महान उत्सव के रुप में इसे चिन्हित करने के लिये पूरे भारत भर के शैक्षणिक संस्थान और स्कूलों में बहुत खुशी के साथ मनाया जाता है। इस दिन स्कूल खुला रहता है जिससे बच्चे स्कूल जाये और ढेर सारी गतिविधियों और कार्यक्रमों में भाग ले।

भाषण, गीत-संगीत, कला, नृत्य, कविता पाठ, फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता आदि सांस्कृतिक कार्यक्रम विद्यार्थियों के लिये शिक्षकों द्वारा आयोजित किया जाता है।

जीतने वाले विद्यार्थियों को स्कूल की तरफ से सम्मानित किया जाता है। इस अवसर पर कार्यक्रम आयोजित करना केवल स्कूल की जिम्मेदारी नहीं है बल्कि सामाजिक और संयुक्त संस्थानों की भी है।

बच्चे इस दिन खूब मौज-मस्ती करते हैं क्योंकि वह कोई भी दूसरा रंग-बिरंगा कपड़ा पहन सकते है। उत्सव खत्म होने के बाद विद्यार्थियों को दोपहर के स्वादिष्ट भोजन के साथ मिठाई भी बाँटी जाती है।

अपने प्यारे विद्यार्थियों के लिये शिक्षक भी कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेते है जैसे ड्रामा, डांस आदि। इस दिन पर शिक्षक बच्चों को पिकनिक पर भी ले जाते है। इस दिन पर बच्चों को सम्मान देने के लिये टीवी और रेडियो मीडिया द्वारा खास कार्यक्रम चलाया जाता है क्योंकि वह देश के भावी भविष्य होते है।

बाल दिवस का कार्यक्रम

देश के प्रत्येक छोटे बड़े शहर में बाल दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूल के छात्र एक स्थान पर इकट्ठे होते हैं और वहाँ पर अनेक प्रकार के खेल प्रतियोगिता रखे जाते हैं बच्चे शारीरिक व्यायाम का प्रदर्शन भी करते हैं।

गीत संगीत नृत्य और नाटक का कार्यक्रम भी रखा जाता है। इसके साथ ही इस दिन चित्रकला प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है। रंग-बिरंगे वस्त्रों में सजे हंसते खेलते बच्चे उत्सव की शोभा को बढ़ाते हैं।

बच्चों में पुरस्कार और मिठाइयाँ बाँटी जाती हैं। पंडित नेहरू जब जीवित थे तो स्वयं इस उत्सव में शामिल होते थे और बच्चों के साथ हंसते खेलते थे।

कई स्कूलों व संस्थानों में बाल मेला एवं प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं, ताकि बच्चों की क्षमता और प्रतिभा को और बढ़ावा मिले। इस दिन विशेष रूप से गरीब बच्चों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने एवं बाल श्रम तथा बाल शोषण जैसे गंभीर मुद्दों पर भी विचार विमर्श किया जाता है।

निष्कर्ष

बच्चे हमारे देश का आने वाला भविष्य होते हैं, इसलिए यह काफी आवश्यक है कि उनके लालन-पालन पर विशेष ध्यान दें। यहीं कारण है कि बच्चों के समग्र विकास को सुनिश्चित करने के लिए बाल दिवस का यह विशेष कार्यक्रम मनाया जाता है, जिससे की हमने उनके महत्व को समझ सकें और उनके अधिकारों के प्रति अपने कर्तव्य को निभा सकें।

बाल दिवस  ( Children’s day ) को और भी विशेष बनाये

यदि हम चाहे तो कुछ बातों पर अमल करके बाल दिवस के इस दिन को और महत्वपूर्ण बना सकते है:

  1. बाल दिवस को स्कूलों और संस्थानो तक ही सीमित ना रखकर इसका छोटे स्तर पर गरीब और जरुरतमंद बच्चों के बीच आयोजन करना चाहिए ताकि वह भी अपने अधिकारों के विषय में जान सके।
  2. छोटे बच्चों के मनोरंजक कार्यक्रमों का आयोजन करके।
  3. व्यस्क लोगों और अभिभावकों को बाल अधिकारों के विषय में जागरुक करके।
  4. जरुरतमंद बच्चों में भोजन, खिलौने, पुस्तकें और अन्य जरुरत की वस्तुएं बाटकर।
  5. यदि हम चाहें तो बाल मजदूरी रोकने के लिए जरुरतमंद बच्चों की सहायता कर सकते है और उन्हें शिक्षा का अवसर प्रदान करके तरक्की के ओर अग्रसित कर सकते हैं।

निष्कर्ष

बाल दिवस कोई साधारण दिन नही है, यह हमारे देश के भावी पीढ़ी के अधिकारों का ज्ञान देने के लिए निर्धारित किया हुआ एक विशेष दिन है।

भारत जैसे विकासशील देश में इसका महत्व और भी बढ़ जाता है क्योंकि उभरती हुई अर्थव्यवस्था होने के कारण यहां बाल मजदूरी और बाल अधिकारों के शोषण की नित्य ही कोई ना कोई घटना सुनने को मिलती है।

इसलिए यह काफी जरुरी है कि हम ना सिर्फ बच्चों बल्कि उनके अभिभावकों को भी बच्चों के मौलिक अधिकारों के विषय में पूर्ण जानकारी दे और उन्हें इस विषय में अधिक से अधिक जागरुक करने का प्रयास करें।

यदि आपका ” बाल दिवस का महत्व | Children’s day | Bal diwas hindi speech  से सम्बंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेट के माध्यम से हम से पूछ सकते हैं ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here