संविधान अनुच्छेद 284 | Article 284 of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोलोक सेवकों और न्यायालयों द्वारा प्राप्त वादकर्ताओं की जमा राशियों और अन्य धनराशियों की अभिरक्षा | भारतीय संविधान अनुच्छेद 284 | Article 284 of Indian Constitution in Hindi | Article 284 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 284 | Custody of suitors’ deposits and other moneys received by public servants and courtsके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 284 | Article 284 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 284 in Hindi ] –

लोक सेवकों और न्यायालयों द्वारा प्राप्त वादकर्ताओं की जमा राशियों और अन्य धनराशियों की अभिरक्षा–

ऐसी सभी धनराशियां, जो–

(क) यथास्थिति, भारत सरकार या राज्य की सरकार द्वारा जुटाए गए या प्राप्त राजस्व या लोक धनराशियों से भिन्न हैं, और संघ या किसी राज्य के कार्यकलाप के संबंध में नियोजित किसी अधिकारी को उसकी उस हैसियत में, या

(ख) किसी वाद, विषय , लेखे या व्यक्तियों  के नाम में जमा भारत के राज्यक्षेत्र के भीतर किसी न्यायालय को, प्राप्त होती है या उसके पास निक्षिप्त की जाती है, यथास्थिति, भारत के लोक लेखे में या राज्य के लोक लेखे में जमा की जाएगी ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 284

[ Indian Constitution Article 284 in English ] –

“Custody of suitors’ deposits and other moneys received by public servants and courts”–

All moneys received by or deposited with —

(a) any officer employed in connection with the affairs of the Union or of a State in his capacity as such, other than revenues or public moneys raised or received by the Government of India or the Government of the State, as the case may be, or

(b) any court within the territory of India to the credit of any cause, matter, account or persons, shall be paid into the public account of India or the public account of State, as the case may be.


भारतीय संविधान अनुच्छेद 284

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 19, 2020 — 7:30 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.