संविधान अनुच्छेद 251 | Article 251 of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोसंसद  द्वारा अनुच्छेद 249 और अनुच्छेद 250 के अधीन बनाई गई विधियों और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों में असंगति | भारतीय संविधान अनुच्छेद 251 | Article 251 of Indian Constitution in Hindi | Article 251 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 251 | Inconsistency between laws made by Parliament under articles 249 and 250 and laws made by the Legislatures of Statesके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 251 | Article 251 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 251 in Hindi ] –

संसद  द्वारा अनुच्छेद 249 और अनुच्छेद 250 के अधीन बनाई गई विधियों और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों में असंगति–

अनुच्छेद 249 और अनुच्छेद 250 की कोई बात किसी राज्य के विधान-मंडल की ऐसी विधि बनाने की शक्ति को,जिसे इस संविधान के अधीन बनाने की शक्ति उसको है, निर्बंधित नहीं  करेगी किंतु  यदि किसी राज्य के विधान-मंडल द्वारा बनाई गई विधि का कोई उपबंध  संसद  द्वारा बनाई गई विधि के, जिसे उक्त अनुच्छेदों में से किसी अनुच्छेद के अधीन बनाने की शक्ति संसद  को है, किसी उपबंध  के विरुद्ध है तो संसद द्वारा बनाई गई विधि अभिभावी होगी चाहे वह राज्य के विधान-मंडल द्वारा बनाई गई विधि से पहले या उसके बाद में पारित  की गई हो और राज्य के विधान-मंडल द्वाराबनाई गई विधि उस विरोध की मात्रा तक अप्रवर्तनीय होगी किंतु ऐसा तभी तक होगा जब तक संसद द्वारा बनाई गई विधि प्रभावी रहती है ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 251

[ Indian Constitution Article 251 in English ] –

“Inconsistency between laws made by Parliament under articles 249 and 250 and laws made by the Legislatures of States”–

Nothing in articles 249 and 250 shall restrict the power of the Legislature of a State to make any law which under this Constitution it has power to make, but if any provision of a law made by the Legislature of a State is repugnant to any provision of a law made by Parliament which Parliament has under either of the said articles power to make, the law made by Parliament, whether passed before or after the law made by the Legislature of the State, shall prevail, and the law made by the Legislature of the State shall to the extent of the repugnancy, but so long only as the law made by Parliament continues to have effect, be inoperative.


भारतीय संविधान अनुच्छेद 251

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 19, 2020 — 2:11 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.