संविधान अनुच्छेद 243o | Article 243o of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोनिर्वाचन संबंधी मामलों में न्यायालयों के हस्तक्षेप का वर्जन | भारतीय संविधान अनुच्छेद 243o | Article 243o of Indian Constitution in Hindi | Article 243o in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 243o | Bar to interference by courts in electoral mattersके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 243o | Article 243o of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 243o in Hindi ] –

निर्वाचन संबंधी मामलों में न्यायालयों के हस्तक्षेप का वर्जन–

इस संविधान में किसी बात के होते हुए  भी,–

(क) अनुच्छेद 243ट के अधीन बनाई गई या बनाई जाने के लिए  तात्पर्यित किसी ऐसी  विधि की विधिमान्यता, जो निर्वाचन-क्षेत्रों के परिसीमन या ऐसे  निर्वाचन-क्षेत्रों को स्थानों के आबंटन से संबंधित है, किसी न्यायालय में प्रश्नगत नहीं  की जाएगी ;

(ख) किसी पंचायत के लिए  कोई निर्वाचन, ऐसी निर्वाचन अर्जी पर ही प्रश्नगत किया जाएगा जो ऐसे  प्राधिकारी को और ऐसी रीति से प्रस्तुत की गई है, जिसका किसी राज्य के विधान-मंडल द्वारा बनाई गई किसी विधि द्वारा या उसके अधीन उपबंध  किया जाए, अन्यथा नहीं  ।]

भारतीय संविधान अनुच्छेद 243o

[ Indian Constitution Article 243o in English ] –

“Bar to interference by courts in electoral matters”–

Notwithstanding anything in this Constitution, —

(a) the validity of any law relating to the delimitation of constituencies or the allotment of seats to such constituencies, made or purporting to be made under article 243K, shall not be called in question in any court;

(b) no election to any Panchayat shall be called in question except by an election petition presented to such authority and in such manner as is provided for by or under any law made by the Legislature of a State.


भारतीय संविधान अनुच्छेद 243o

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 18, 2020 — 7:58 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.