संविधान अनुच्छेद 205 | Article 205 of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोअनुपूरक , अतिरिक्त  या अधिक अनुदान | भारतीय संविधान अनुच्छेद 205 | Article 205 of Indian Constitution in Hindi | Article 205 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 205 |  Supplementary, additional or excess grants” के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 205 | Article 205 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 205 in Hindi ] –

अनुपूरक , अतिरिक्त  या अधिक अनुदान

(1) यदि–

(क) अनुच्छेद 204 के उपबंधों  के अनुसार बनाई गई किसी विधि द्वारा किसी विशिष्ट सेवा पर चालू वित्तीय वर्ष के लिए व्यय किए जाने के लिए प्राधिकॄत कोई रकम उस वर्ष के प्रयोजनों के लिए अपर्याप्त पाई जाती है या उस वर्ष के वार्षिक वित्तीय विवरण में अनुध्यात न की गई किसी नई सेवा पर अनुपूरक या अतिरिक्त व्यय की चालू वित्तीय वर्ष के दौरान आवश्यकता फैदा हो गई है, या

(ख) किसी वित्तीय वर्ष के दौरान किसी सेवा पर उस वर्ष और उस सेवा के लिए अनुदान की गई रकम से अधिक कोई धन व्यय हो गया है, तो राज्यपाल , यथास्थिति, राज्य के विधान-मंडल के सदन या सदनों के समक्ष उस व्यय  की प्राक्कलित  रकम को दार्शित करने वाला दूसरा विवरण रखवाऋगा या राज्य की विधान सभा में ऐसे आधिकक़्य के लिए मांग प्रस्तुत करवाएगा  ।

(2) ऐसे  किसी विवरण और व्यय  या मांग के संबंध में तथा राज्य की संचित निधि में से ऐसे व्यय या ऐसी  मांग से संबंधित अनुदान की पूर्ति के लिए धन का विनियोग प्राधिकॄत करने के लिए बनाई जाने वाली किसी विधि के संबंध में भी, अनुच्छेद 202, अनुच्छेद 203 और अनुच्छेद 204 के उपबंध  वैसे ही प्रभावी होंगे जैसे वे वार्षिक वित्तीय विवरण और उसमें वर्णित व्यय के संबंध में या किसी अनुदान की किसी मांग के संबंध में और राज्य की संचित निधि में से ऐसे  व्यय  या अनुदान की पूर्ति के लिए धन का विनियोग प्राधिकॄत करने के लिए बनाई जाने वाली विधि के संबंध में प्रभावी हैं ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 205

[ Indian Constitution Article 205 in English ] –

“ Supplementary, additional or excess grants”–

(1) The Governor shall—
(a) if the amount authorised by any law made in accordance with the provisions of article 204 to
be expended for a particular service for the current financial year is found to be insufficient for the
purposes of that year or when a need has arisen during the current financial year for supplementary or
additional expenditure upon some new service not contemplated in the annual financial statement for
that year, or
(b) if any money has been spent on any service during a financial year in excess of the amount
granted for that service and for that year,
cause to be laid before the House or the Houses of the Legislature of the State another statement showing
the estimated amount of that expenditure or cause to be presented to the Legislative Assembly of the State
a demand for such excess, as the case may be.
(2) The provisions of articles 202, 203 and 204 shall have effect in relation to any such statement and
expenditure or demand and also to any law to be made authorising the appropriation of moneys out of the
Consolidated Fund of the State to meet such expenditure or the grant in respect of such demand as they
have effect in relation to the annual financial statement and the expenditure mentioned therein or to a
demand for a grant and the law to be made for the authorisation of appropriation of moneys out of the
Consolidated Fund of the State to meet such expenditure or grant

 


भारतीय संविधान अनुच्छेद 205

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 16, 2020 — 10:45 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.