संविधान अनुच्छेद 200 | Article 200 of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोविधेयकों पर  अनुमति | भारतीय संविधान अनुच्छेद 200 | Article 200 of Indian Constitution in Hindi | Article 200 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 200 | Assent to Billsके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 200 | Article 200 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 200 in Hindi ] –

विधेयकों पर  अनुमति

जब कोई विधेयक राज्य की विधान सभा द्वारा या विधान परिषद  वाले राज्य में विधान-मंडल के दोनों सदनों द्वारा पारित  कर दिया गया है तब वह राज्यपाल  के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा और राज्यपाल  घोषित करेगा कि वह विधेयक पर  अनुमति देता है या अनुमति रोक लेता है अथवा वह विधेयक को राष्ट्रपति  के विचार के लिए  आरक्षित रखता है :

परंतु राज्यपाल अनुमति के लिए अपने समक्ष विधेयक प्रस्तुत किए  जाने के पश्चात्  यथाशीघ्र उस विधेयक को, यदि वह धन विधेयक नहीं है तो, सदन या सदनों को इस संदेश के साथ लौटा सकेगा कि सदन या दोनों सदन विधेयक पर  या उसके किन्हीं  विनिर्दिष्ट उपबंधों पर  पुनर्विचार  करें और विशिष्टतया  किन्हीं  ऐसे संशोधनों के पुरःस्थाफन की वांछनीयता पर  विचार करें जिनकी उसने अपने  संदेश में सिफारिश की है और जब विधेयक इस प्रकार लौटा दिया जाता है तब सदन या दोनों सदन विधेयक पर तदनुसार पुनर्विचार करेंगे और यदि विधेयक सदन या सदनों द्वारा संशोधन सहित या उसके बिना फिर से पारित कर दिया जाता है और राज्यपाल के समक्ष अनुमति के लिए प्रस्तुत किया जाता है तो राज्यपाल उस पर अनुमति नहीं रोकेगा :

परंतु  यह और कि जिस विधेयक से, उसके विधि बन जाने पर, राज्यपाल की राय में उच्च न्यायालय की शक्तियों का ऐसा  अल्पीकरण  होगा कि वह स्थान, जिसकी पूर्ति  के लिए वह न्यायालय इस संविधान द्वारा परिकल्पित है, संकटापन्न हो जाएगा, उस विधेयक पर  राज्यपाल अनुमति नहीं देगा, किंतु  उसे राष्ट्रपति  के विचार के लिए आरक्षित रखेगा ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 200

[ Indian Constitution Article 200 in English ] –

Assent to Bills”–

When a Bill has been passed by the Legislative Assembly of a State or, in the case of a State having a Legislative Council, has been passed by both Houses of the Legislature of the State, it shall be presented to the Governor and the Governor shall declare either that he assents to the Bill or that he withholds assent therefrom or that he reserves the Bill for the consideration of the President: 

Provided that the Governor may, as soon as possible after the presentation to him of the Bill for assent, return the Bill if it is not a Money Bill together with a message requesting that the House or Houses will reconsider the Bill or any specified provisions thereof and, in particular, will consider the desirability of introducing any such amendments as he may recommend in his message and, when a Bill is so returned, the House or Houses shall reconsider the Bill accordingly, and if the Bill is passed again by the House or Houses with or without amendment and presented to the Governor for assent, the Governor shall not withhold assent therefrom: 

Provided further that the Governor shall not assent to, but shall reserve for the consideration of the President, any Bill which in the opinion of the Governor would, if it became law, so derogate from the powers of the High Court as to endanger the position which that Court is by this Constitution designed to fill. 

 


भारतीय संविधान अनुच्छेद 200

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 16, 2020 — 9:46 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.