संविधान अनुच्छेद 189 | Article 189 of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोसदनों में मतदान, रिक्तियों के होते हुए भी सदनों की कार्य करने की शक्ति और गणपूर्ति   | भारतीय संविधान अनुच्छेद 189 | Article 189 of Indian Constitution in Hindi | Article 189 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 189 | Voting in Houses, power of Houses to act notwithstanding vacancies and quorumके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 189 | Article 189 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 189 in Hindi ] –

सदनों में मतदान, रिक्तियों के होते हुए भी सदनों की कार्य करने की शक्ति और गणपूर्ति 

(1)  इस संविधान में यथा अन्यथा उपबंधित   के सिवाय, किसी राज्य के विधान-मंडल के किसी सदन की बैठक में सभी प्रश्नों का अवधारण, अध्यक्ष या सभापति को अथवा उस रूप  में कार्य करने वाले व्यक्ति  को छोड़ कर, उपस्थित  और मत देने वाले सदस्यों के बहुमत से किया जाएगा  ।

अध्यक्ष या सभापति , अथवा उस रूप  में कार्य करने वाला व्यक्ति  प्रथमत:  मत नहीं  देगा, किंतु  मत बराबर होने की दशा में उसका निर्णायक मत होगा और वह उसका प्रयोग करेगा ।

(2) राज्य के विधान-मंडल के किसी सदन की सदस्यता में कोई रिक्ति  होने पर  भी, उस सदन को कार्य करने की शक्ति  होगी और यदिबाद में यह पता  चलता है कि कोई व्यक्ति , जो ऐसा  करने का हकदार नहीं था, कार्यवाहियों में उपस्थित  रहा है या उसने मत दिया है या अन्यथा भाग लिया है तो भी राज्य के विधान-मंडल की कार्यवाही विधिमान्य होगी ।

(3) जब तक राज्य का विधान-मंडल विधि द्वारा अन्यथा उपबंध  न करे तब तक राज्य के विधान-मंडल के किसी सदन का अधिवेशन गठित करने के लिए गणपूर्ति दस सदस्य या सदन के सदस्यों की कुल संख्या का दसवां भाग, इसमें से जो भी अधिक हो, होगी ।

(4) यदि राज्य की विधान सभा या विधान परिषद  के अधिवेशन में किसी समय गणपूर्ति  नहीं  है तो अध्यक्ष या सभापति अथवा उस रूप  में कार्य करने वाले व्यक्ति  का यह कर्तव्य  होगा कि वह सदन को स्थगित कर दे या अधिवेशन को तब तक के लिए निलंबित कर दे जब तक गणपूर्ति नहीं हो जाती है ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 189

[ Indian Constitution Article 189 in English ] –

Voting in Houses, power of Houses to act notwithstanding vacancies and quorum”–

(1) Save as otherwise provided in this Constitution, all questions at any sitting of a House of the Legislature of a State shall be determined by a majority of votes of the members present and voting, other than the Speaker or Chairman, or person acting as such. 

The Speaker or Chairman, or person acting as such, shall not vote in the first instance, but shall have and exercise a casting vote in the case of an equality of votes. 

(2) A House of the Legislature of a State shall have power to act notwithstanding any vacancy in the membership thereof, and any proceedings in the Legislature of a State shall be valid notwithstanding that it is discovered subsequently that some person who was not entitled so to do sat or voted or otherwise took part in the proceedings. 

(3) Until the Legislature of the State by law otherwise provides, the quorum to constitute a meeting of a House of the Legislature of a State shall be ten members or one-tenth of the total number of members of the House, whichever is greater. 

(4) If at any time during a meeting of the Legislative Assembly or the Legislative Council of a State there is no quorum, it shall be the duty of the Speaker or Chairman, or person acting as such, either to adjourn the House or to suspend the meeting until there is a quorum. 

 


भारतीय संविधान अनुच्छेद 189

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 15, 2020 — 10:26 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.