Home LAW धारा 87 क्या है | 87 Ipc in Hindi | IPC Section...

धारा 87 क्या है | 87 Ipc in Hindi | IPC Section 87

38
0
87 Ipc in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ भारतीय दंड संहिता की धारा 87 क्या है | 87 Ipc in Hindi | IPC Section 87  के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 87 क्या है | 87 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 87 ] हिंदी में –

सम्मति से किया गया कार्य जिससे मृत्यु या घोर उपहति कारित करने का आशय न हो और न उसकी संभाव्यता का ज्ञान हो-

कोई बात, जो मृत्यु या घोर उपहति कारित करने के आशय से न की गई हो और जिसके बारे में कर्ता को यह ज्ञात न हो कि उससे मृत्यु या घोर उपहति कारित होना संभाव्य है, किसी ऐसी अपहानि के कारण अपराध नहीं है जो उस बात से अठारह वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति को, जिसने वह अपहानि सहन करने की चाहे अभिव्यक्त, चाहे विवक्षित सम्मति दे दी हो, कारित हो या कारित होना कर्ता द्वारा आशयित हो अथवा जिसके बारे में कर्ता को ज्ञात हो कि वह उपर्युक्त जैसे किसी व्यक्ति को, जिसने उस अपहानि की जोखिम उठाने की सम्मति दे दी है, उस बात द्वारा कारित होनी संभाव्य है ।

दृष्टांत

क और य आमोदार्थ आपस में पटेबाजी करने को सहमत होते हैं | इस सहमति में किसी अपहानि को, जो ऐसी पटेबाजी में खेल के नियम के विरुद्ध न होते हुए कारित हो, उठाने की हर एक को सम्मति विवक्षित है, और यदि क यथानियम पटेबाजी करते हुए य को उपहति कारित कर देता है, तो क कोई अपराध नहीं करता है।

[ Ipc Sec. 87 ] अंग्रेजी में –

“Act not intended and not known to be likely to cause death or grievous hurt, done by consent ”–

Nothing which is not intended to cause death, or grievous hurt, and which is not known by the doer to be likely to cause death or grievous hurt, is an offence by reason of any harm which it may cause, or be intended by the doer to cause, to any person, above eighteen years of age, who has given consent, whether express or implied, to suffer that harm; or by reason of any harm which it may be known by the doer to be likely to cause to any such person who has consented to take the risk of that harm.

Illustration-

A and Z agrees to fence with each other for amusement. This agreement implies the consent of each to suffer any harm which, in the course of such fencing, may be caused without foul play; and if A, while playing fairly, hurts Z, A commits no offence.

Previous articleधारा 86 क्या है | 86 Ipc in Hindi | IPC Section 86
Next articleधारा 88 क्या है | 88 Ipc in Hindi | IPC Section 88

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here