Home LAW धारा 404 क्या है | 404 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 404 क्या है | 404 IPC in Hindi | IPC Section 404

1840
0
404 Ipc in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ऐसी सम्पत्ति का बेईमानी से दुर्विनियोग जो मृत व्यक्ति की मृत्यु के समय उसके कब्जे में थी | भारतीय दंड संहिता की धारा 404 क्या है | 404 Ipc in Hindi | IPC Section 404 | Dishonest misappropriation of property possessed by deceased person at the time of his death के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 404 क्या है | 404 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 404 ] हिंदी में –

ऐसी सम्पत्ति का बेईमानी से दुर्विनियोग जो मृत व्यक्ति की मृत्यु के समय उसके कब्जे में थी-

जो कोई किसी सम्पत्ति को, यह जानते हुए कि ऐसी सम्पत्ति किसी व्यक्ति की मृत्यु के समय उस मृत व्यक्ति के कब्जे में थी, और तब से किसी व्यक्ति के कब्जे में नहीं रही है, जो ऐसे कब्जे का वैध रूप से हकदार है, बेईमानी से दुर्विनियोजित करेगा या अपने उपयोग में संपरिवर्तित कर लेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा, और यदि वह अपराधी, ऐसे व्यक्ति की मृत्यु के समय लिपिक या सेवक के रूप में उसके द्वारा नियोजित था, तो कारावास सात वर्ष तक का हो सकेगा |

दृष्टांत

य के कब्जे में फर्नीचर और धन था । वह मर जाता है | उसका सेवक क, उस धन के किसी ऐसे व्यक्ति के कब्जे में आने से पूर्व, जो ऐसे कब्जे का हकदार है बेईमानी से उसका दुर्विनियोग करता हे | क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है।

404 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 404 ] अंग्रेजी में –

“ Dishonest misappropriation of property possessed by deceased person at the time of his death ”–

Whoever dishonestly misappro­priates or converts to his own use property, knowing that such property was in the possession of a deceased person at the time of that person’s decease, and has not since been in the posses­sion of any person legally entitled to such possession, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to three years, and shall also be liable to fine; and if the offender at the time of such person’s decease was employed by him as a clerk or servant, the imprisonment may extend to seven years.

Illustration

Z dies in possession of furniture and money. His servant A, before the money comes into the possession of any person entitled to such possession, dishonestly misappropriates it. A has commit­ted the offence defined in this section.

404 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here