Home LAW धारा 345 क्या है | 345 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 345 क्या है | 345 IPC in Hindi | IPC Section 345

3489
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ ऐसे व्यक्ति का सदोष परिरोध जिसके छोड़ने के लिए रिट निकल चुका है | भारतीय दंड संहिता की धारा 345 क्या है | 345 Ipc in Hindi | IPC Section 345 | Wrongful confinement of person for whose liberation writ has been issued के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 345 क्या है | 345 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 345 ] हिंदी में –

 ऐसे व्यक्ति का सदोष परिरोध जिसके छोड़ने के लिए रिट निकल चुका है–

जो कोई यह जानते हुए किसी व्यक्ति को सदोष परिरोध में रखेगा कि उस व्यक्ति को छोड़ने के लिए रिट सम्यक रूप से निकल चुका है । वह किसी अवधि के उस कारावास के अतिरिक्त, जिससे कि वह इस अध्याय की किसी अन्य धारा के अधीन दण्डनीय हो, दोनों में से किसी भांति के कारावास से. जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा।

345 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 345 ] अंग्रेजी में –

“ Wrongful confinement of person for whose liberation writ has been issued ”–

Whoever keeps any person in wrongful confinement, knowing that a writ for the liberation of that person has been duly issued, shall be punished with imprisonment of either de­scription for a term which may extend to two years in addition to any term of imprisonment to which he may be liable under any other section of this Chapter.

345 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here