Home LAW धारा 322 क्या है | 322 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 322 क्या है | 322 IPC in Hindi | IPC Section 322

7266
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ स्वेच्छया घोर उपहति कारित करना | भारतीय दंड संहिता की धारा 322 क्या है | 322 Ipc in Hindi | IPC Section 322 |  Voluntarily causing grievous hurt  के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 322 क्या है | 322 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 322 ] हिंदी में –

स्वेच्छया घोर उपहति कारित करना–

जो कोई व्यक्ति स्वेच्छया उपहति कारित करता है, यदि वह उपहति. जिसे कारित करने का उसका आशय है या जिसे वह जानता है कि उसके द्वारा उसका किया जाना सम्भाव्य है चोर उपहति है, और यदि वह उपहति, जो वह कारित करता है, घोर उपहति को, तो वह “स्वेच्छया घोर उपहति करता हैं, यह कहा जाता है |

स्पष्टीकरण–कोई व्यक्ति स्वेच्छया घोर उपहति कारित करता है, यह नहीं कहा जाता है सिवाय जब कि वह घोर उपहति करता है और घोर उपहति कारित करने का उसका आशय हो या घोर उपहति कारित होना वह सम्भाव्य जानता हो । किन्तु यदि वह यह आशय रखते हुए या यह संभाव्य जानते हुए कि वह किसी एक किस्म की घोर उपहति कारित कर दे वास्तव में दूसरी ही किस्म की घोर उपहति कारित करता है, तो वह स्वेच्छया घोर उपहति करता है, यह कहा जाता है ।

दृष्टांत

क, यह आशय रखते हुए या यह सम्भाव्य जानते हुए कि वह य के चेहरे को स्थायी रूप से विद्वपित कर दे. य के चेहरे पर प्रहार करता है जिससे य का चेहरा स्थायी रूप से विटुपित तो नहीं होता, किन्तु जिससे य को बीस दिन तक तीन शारीरिक पीला कारित होती है | क ने स्वेच्छया घोर उपठति कारित की है।

322 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 322 ] अंग्रेजी में –

“Voluntarily causing grievous hurt ”–

Whoever voluntarily causes hurt, if the hurt which he intends to cause or knows himself to be likely to cause is grievous hurt, and if the hurt which he causes is grievous hurt, is said “voluntarily to cause grievous hurt.”

Explanation.—A person is not said voluntarily to cause grievous hurt except when he both causes grievous hurt and intends or knows himself to be likely to cause grievous hurt. But he is said voluntarily to cause grievous hurt, if intending or knowing him­self to be likely to cause grievous hurt of one kind, he actually causes grievous hurt of another kind.

Illustration

A, intending or knowing himself to be likely permanently to dis­figure Z’s face, gives Z a blow which does not permanently dis­figure Z’s face, but which cause Z to suffer severe bodily pain for the space of twenty days. A has voluntarily caused grievous hurt.

322 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here