Home LAW धारा 220 क्या है | 220 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 220 क्या है | 220 IPC in Hindi | IPC Section 220

5192
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ प्राधिकार वाले व्यक्ति द्वारा जो यह जानता है कि वह विधि के प्रतिकूल कार्य कर रहा है, विचारण के लिए या परिरोध करने के लिए सुपुर्दगी | भारतीय दंड संहिता की धारा 220 क्या है | 220 Ipc in Hindi | IPC Section 220 | Commitment for trial or confinement by person having author­ity who knows that he is acting contrary to law  के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 220 क्या है | 220 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 220 ] हिंदी में –

प्राधिकार वाले व्यक्ति द्वारा जो यह जानता है कि वह विधि के प्रतिकूल कार्य कर रहा है, विचारण के लिए या परिरोध करने के लिए सुपुर्दगी–

जो कोई किसी ऐसे पद पर होते हुए, जिससे व्यक्तियों को विचारण या परिरोध के लिए सुपुर्द करने का, या व्यक्तियों को परिरोध में रखने का उसे वैध प्राधिकार हो किसी व्यक्ति को उस प्राधिकार के प्रयोग में यह जानते हुए भ्रष्टतापूर्वक या विद्वेषपूर्वक विचारण या परिरोध के लिए सुपुर्द करेगा या परिरोध में रखेगा कि ऐसा करने में वह विधि के प्रतिकूल कार्य कर रहा है, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।

220 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 220 ] अंग्रेजी में –

“ Commitment for trial or confinement by person having author­ity who knows that he is acting contrary to law ”–

Whoever, being in any office which gives him legal authority to commit persons for trial or to confinement, or to keep persons in confinement, corruptly or maliciously commits any person for trial or to confinement, or keeps any person in confinement, in the exercise of that authority knowing that in so doing he is acting contrary to law, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, or with fine, or with both.

220 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here